आरटीआई ऍक्ट 2005

4(1)(बी) (i)  भारत सरकार के परमाणु ऊर्जा विभाग के अंतर्गत भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र से विकिरण एवं आइसोटोप प्रौद्योगिकी बोर्ड (ब्रिट) का गठन मार्च 1989 में किया गया । इसके संगठनात्मक विवरण, कार्यकलाप, और ब्रिट के दायित्व और भूमिका का भी यहां उल्लेख किया गया । ब्रिट का गठन स्वास्थ्य, कृषि, अनुसंधान एवं उद्योग के क्षेत्र में रेडियोआइसोटोप एवं विकिरण अनुप्रयोगों के व्यवसायीकरण को ध्यान में रखकर किया गया था ।

ब्रिट का दायित्व

संगठनात्मक संरचना  

(i) ब्रिट से संबद्ध सूचना और क्रियाकलापों को निम्न रूप से वर्गीकृत किया गया है :

मुख्य प्रशासनिक अधिकारी

उप-लेखा नियंत्रक 

(ii) अधिकारियों के दायित्व एवं सामर्थ्य :

मुख्य कार्यकारी ब्रिट : मुख्य कार्यकारी ब्रिट इकाई के प्रमुख अधिकारी है और ब्रिट के दायित्व के अनुपालन के लिये मुख्य रुप से जिम्मेदार है । मुख्य कार्यकारी, ब्रिट परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष एवं सेक्रेटरी परमाणु ऊर्जा विभाग को रिपोर्ट करते है । मुख्य कार्यकारी, ब्रिट बोर्ड के संयोजक और ब्रिट प्रबंधन समिती के अध्यक्ष भी है । 

निम्नलिखित लिंक ब्रिट के कार्यकलाप, वरिष्ठता, एवं संगठनात्मक सरंचना को दर्शाती हैं

ब्रिट के कार्यक्रम

 ब्रिट के विभिन्न विभागों और इकाइयों के दायित्व :

रेडियोफार्मास्यूटिकल्स (गुणता नियंत्रण आश्वासन)

प्रशासन एवं लेखा


mix_motto govdotin